Mirza Ghalib Shayari in Hindi Collection 2021

Mirza Ghalib Shayari in Hindi Collection

न सुनो गर बुरा कहे कोई,
न कहो गर बुरा करे कोई !!
रोक लो गर ग़लत चले कोई,
बख़्श दो गर ख़ता करे कोई !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

पड़िए गर बीमार तो कोई न हो तीमारदार
और अगर मर जाइए तो नौहा-ख़्वाँ कोई न हो

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

हसद से दिल अगर अफ़्सुर्दा है गर्म-ए-तमाशा हो
कि चश्म-ए-तंग शायद कसरत-ए-नज़्ज़ारा से वा हो

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

हम तो जाने कब से हैं आवारा-ए-ज़ुल्मत मगर,
तुम ठहर जाओ तो पल भर में गुज़र जाएगी रात !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना
[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

तेरे वादे पर जिये हम
तो यह जान,झूठ जाना
कि ख़ुशी से मर न जाते
अगर एतबार होता ..
गा़लिब

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

बस कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना।
आदमी को भी मयस्सर नहीं इन्साँ होना।।

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क जीने और मरने का,
उसी को देखकर जीते हैं जिस क़ाफ़िर पे दम निकले।

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना।
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना।।

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

तोड़ा कुछ इस अदा से ताल्लुक उसने ग़ालिब,
कि हम सारी उम्र अपना क़ुसूर ढूँढ़ते रहे।

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

हमने माना कि तग़ाफुल न करोगे लेकिन,
खाक हो जायेंगे हम तुझको ख़बर होने तक।

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

तुम अपने शिकवे की बातें
न खोद खोद के पूछो
हज़र करो मिरे दिल से
कि उस में आग दबी है..
गा़लिब

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं
गा़लिब

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

अपनी गली में मुझ को
न कर दफ़्न बाद-ए-क़त्ल
मेरे पते से ख़ल्क़ को
क्यूँ तेरा घर मिले
गा़लिब

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

Best 2 Line Mirza Ghalib Shayari’s

 

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

कुछ लम्हे हमने ख़र्च किए थे मिले नही,
सारा हिसाब जोड़ के सिरहाने रख लिया !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

भीगी हुई सी रात में जब याद जल उठी,
बादल सा इक निचोड़ के सिरहाने रख लिया !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

तमीज़-ए-ज़िश्ती-ओ-नेकी में लाख बातें हैं,
ब-अक्स-ए-आइना यक-फ़र्द-ए-सादा रखते हैं !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

ज़रा कर ज़ोर सीने में कि तीरे-पुर-सितम निकले,
जो वो निकले तो दिल निकले, जो दिल निकले तो दम निकले !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज,
मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

हम हैं मुश्ताक़ और वो बे-ज़ार
या इलाही ये माजरा क्या है !!
जान तुम पर निसार करता हूँ,
मैं नहीं जानता दुआ क्या है !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

अब अगले मौसमों में यही काम आएगा,
कुछ रोज़ दर्द ओढ़ के सिरहाने रख लिया !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

वो रास्ते जिन पे कोई सिलवट ना पड़ सकी,
उन रास्तों को मोड़ के सिरहाने रख लिया !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

अफ़साना आधा छोड़ के सिरहाने रख लिया,
ख़्वाहिश का वर्क़ मोड़ के सिरहाने रख लिया !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]


_
है उफ़ुक़ से एक संग-ए-आफ़्ताब आने की देर,
टूट कर मानिंद-ए-आईना बिखर जाएगी रात !!

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

दैर नहीं हरम नहीं दर नहीं आस्ताँ नहीं
बैठे हैं रहगुज़र पे हम ग़ैर हमें उठाए क्यूँ

[divider style=”solid” top=”20″ bottom=”20″]

हम हैं मुश्ताक़ और वो बे-ज़ार
या इलाही ये माजरा क्या है

Leave a Comment

error: Content is protected !!